अगर आप एक ब्लॉगर हैं तो क्या आप जानते हैं कि Blogging की दुनियां में Bounce Rate क्या होता हैं? (What is Bounce Rate in Hindi?) Website या Blog के SEO में भी Bounce Rate कितना जरूरी Factor माना जाता हैं? और क्या आप अपने ब्लॉग का Bounce Rate (Reduce) कम करना चाहते हैं?

तो आज आपने एकदम सही आर्टिकल को इस जानकारी को प्राप्त करने का माध्यम बनाया हैं क्योंकि हर ब्लॉगर के लिए अति महत्वपूर्ण इस आर्टिकल में आज हम विस्तार से इस बारे में ही चर्चा करेंगे कि Bounce Rate किसे कहते हैं? अपने ब्लॉग का Bounce Rate कम करने के लिए आपको अपने ब्लॉग पर क्या अलग करने की जरूरत है?

अगर आप अपने ब्लॉग पर अपने हिसाब से लगातार Quality Content डाल रहे हैं लेकिन फिर भी आपके ब्लॉग पर उन आर्टिकल्स को पढ़ने के लिए Visitors नहीं आ रहे हैं और जो कुछ आते भी हैं तो ब्लॉग पर ज्यादा समय नहीं दे रहे हैं और ब्लॉग के Bounce Rate में लगातार वृद्धि हो रही है तो इसमें कहीं न कहीं आप ही कुछ गलत कर रहें हैं।

ब्लॉग का Bounce Rate ज्यादा होना और लगातार बढ़ते जाना एक ब्लॉगर के लिए बहुत ही चिंताजनक विषय बन जाता हैं क्योंकि इससे ब्लॉग की रैंकिंग पर बहुत बुरा असर पड़ता हैं। किसी भी ब्लॉग का बाउंस रेट ज्यादा होना मतलब की उस ब्लॉग का User Experience अच्छा नहीं है।

अगर कोई ब्लॉग नया है और उसका बाउंस रेट अधिक है तो इसमें कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन अगर आपका ब्लॉग काफी पुराना है और फिर भी उसका Bounce Rate Avarage से अधिक है तो फिर आपको इस विषय में गहराई से सोचने और Smart तरीके से काम करने की जरूरत है।

What is BOUNCE RATE of Website in Hindi?
What is BOUNCE RATE of Website in Hindi?

लेकिन अगर आप इस आर्टिकल को ध्यानपूर्वक पूरा पढ़ते हैं तो मैं यह दावे के साथ कह सकता हूं कि आप Bounce Rate Kya Hai और Blog का Bounce Rate Reduce मतलब कि कम करने के लिए कौन-कौन से महत्वपूर्ण कार्य करने की जरूरत है इस बात को आप बहुत अच्छे तरीके से समझ चुके होंगे और अपने Blog के Bounce Rate को कम करने में जरूर कामयाब हो सकेंगे।

Google Analytics में Bounce Rate क्या होता है?

किसी भी साइट की उच्च स्तर की Ranking में उसकी Quality का बहुत बड़ा योगदान रहता है। अगर आप अपने ब्लॉग की Search Ranking और Visibility को लगातार बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन उसमें कामयाबी नहीं मिल रही हैं तो कहीं ना कहीं आपके Plan में कुछ कमी है आप अपने Content के साथ कुछ गलत कर रहे हैं। क्या है ये कमी इसी बारे में बात करेंगे लेकिन सबसे पहले समझते हैं कि यह BOUNCE RATE Kya Hota Hai?

जब कोई Visitor Search Engine के माध्यम से आपके ब्लॉग पर Visit करता है और कुछ ही देर तक रुकने के बाद बिना किसी दूसरी पोस्ट को पढ़े हुए ही आपके ब्लॉग से वापिस चला जाता है तो वह आपके ब्लॉग के लिए Bounce कहलाता है।

अगर इसे बिल्कुल ही साधारण शब्दों में समझने की कोशिश करें तो यह कुछ इस प्रकार है जैसे कि मैं Google Search Results के माध्यम से किसी चीज की जानकारी लेने के लिए आपके ब्लॉग की किसी पोस्ट पर आया और कंटेंट अच्छा न होने के कारण बिना पोस्ट पढ़े या फिर किसी और वजह से तुरंत Back चला गया मतलब कि आपके ब्लॉग से मैं Bounce कर गया।

Bluehost Hosting Discount Coupon

अब अगर Bounce Rate की बात करें तो यह आपके ब्लॉग पर आने वाले उन Visitors की Total Percentage होती है जो आपके ब्लॉग पर आते ही बिना पोस्ट पढ़े और दूसरी पोस्ट पर क्लिक किए बिना ही तुरंत वापस चले जाते हैं।

अगर आपके ब्लॉग के साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा है की यूजर्स आते हैं लेकिन आपके ब्लॉग पोस्ट को ज्यादा समय नहीं दे पाते। जिससे आपके ब्लॉग का Bounce Rate तेजी से बढ़ रहा हैं तो इससे इतना तो आप मानकर ही चले कि ब्लॉग के अंदर कुछ तो ऐसा हैं जिसे आपके Visitors पसंद नहीं कर रहे हैं।

हो सकता है आप उस तरह का एक Valuable Content नहीं डाल रहे हैं जिसे पढ़ने के बाद यूजर संतुष्ट हो सके। हो सकता है आपके ब्लॉग का डिजाइन उनको पसंद नहीं आ रहा हो। आपने अपनी ब्लॉग पोस्ट में दी गई जानकारी को समझाने के लिए Headings का उचित तरीके से इस्तेमाल न किया हो। या फिर इसके पीछे कुछ और कारण भी हो सकते हैं जिनके बारे में आगे हम इस पोस्ट में बात करेंगे।

अगर किसी ब्लॉग के Bounce Rate को गणितीय भाषा में और Bounce Rate Formula को समझने की कोशिश करें तो कुछ इस प्रकार आसानी से समझ सकते हैं। मान लीजिए आपके ब्लॉग पर एक दिन में 100 Visitors आए और उनमें से 70 Visitors ऐसे थे जो आपके ब्लॉग पर आने के तुरंत बाद वापस चले गए। तो इस स्थिति में आपके ब्लॉग का Total Bounce Rate 70% होगा।

सही BOUNCE RATE कितना होना चाहिए?

Bounce Rate Kya Hota Hai यह जानने के बाद अगर वेबसाइट के एक सही Bounce Rate के Percentage % की बात करें तो यह जितना कम से कम हो साइट के लिए उतना ही अच्छा रहता है लेकिन फिर भी आप सोच रहे होंगे कि कितना % बहुत अच्छा रहता है कितना % Average और कितना % सही और कितना % तक एकदम खराब बाउंस रेट होता है? चलिए इसे समझते हैं:

  • 70% या अधिक – एकदम खराब होता हैं।
  • 50 – 70% तक – खराब भी नहीं बस सही हैं।
  • 30 – 50% तक – अच्छा रहता हैं।
  • 10 – 30% या इससे भी कम – अति उत्तम (लाजवाब)

आपके मन में यह ख्याल भी आ सकता है कि क्या सभी प्रकार की वेबसाइट और ब्लॉग का Bounce Rate एक समान होता हैं तो इसका Simple सा जवाब हैं बिल्कुल भी नहीं। भिन्न-भिन्न प्रकार की Websites और Blogs का Bounce Rate भी अलग-अलग होता हैं। नीचे मैंने अलग-अलग प्रकार की Websites और Blogs के लिए Standered Bounce Rate के कुछ आंकड़े दर्शाए हैं।

  • Content provider Websites: 40 – 60%
  • Lead Generation वाली Websites: 30 – 50%
  • Retail से सम्बंधित Business Websites: 20 – 40%
  • Service Provide करने वाली Websites: 10 – 30%
  • Blogs: 70 – 98 %
  • Landing Pages वाली Websites: 70 – 90%

यहां तक ध्यानपूर्वक पढ़ने के बाद आप इतना तो समझ ही चुकें होंगे कि Bounce Rate क्या होता है? किस प्रकार की साइट के लिए कितना Standered Bounce Rate होना चाहिए? अब बात करते हैं कि आप अपने ब्लॉग का बाउंस रेट कैसे मालूम कर सकते हो?

Blog का BOUNCE RATE कैसे Check करें?

अपने ब्लॉग का एकदम सही-सही बाउंस रेट मालूम करने के लिए Google Analytics सबसे बढ़िया Tool हैं लेकिन इसके लिए जरूरी है कि आपका ब्लॉग Google Analytics से Connect हो।

इसके बाद आप अपने Google Analytics के Account में Login करके Behavior >> Site Content >> All Pages >> Bounce Rate के द्वारा Blog के Bounce Rate की जानकारी प्राप्त कर सकते हो।

आप alexa.com की मदद से बाउंस रेट चैक कर सकते हैं। www.alexa.com/siteinfo इस पर क्लिक करें और फिर सर्च बार में अपनी साइट का एड्रेस टाइप करने के बाद सर्च करें। अब आपके सामने साइट से सम्बंधित काफी जानकारी आ जाएगी। जैसे कि:

ब्लॉग के Bounce Rate को Reduce (कम) कैसे करें?

एक जिम्मेदार ब्लॉगर होने के नाते आपको अपने ब्लॉग का Bounce Rate कम करने के लिए कौन-कौन से महत्वपूर्ण Steps को Follow करना चाहिए चलिए इस भी प्रकाश डालते हैं।

1. Site का Design और Look अच्छा होना चाहिए:

हर खूबसूरत चीज के प्रति आकर्षित होना इंसान की फितरत हैं। अगर कोई चीज अच्छी हैं तो उसे बार-बार देखने को मन करता है। ठीक वैसा ही आपकी साइट के डिजाइन और लुक के साथ भी होता हैं।

अगर आपकी साइट का डिजाइन और लुक User Friendly नहीं है तो Visitors ऐसी साइट में ज्यादा रुचि नहीं लेते हैं और किसी और दूसरी साइट पर चले जाते हैं। अगर आपकी साइट का डिजाइन अच्छा हैं तो Users आपकी साइट पर बार-बार आना पसंद करेंगे और कंटेंट पढ़ने में भी उन्हें मज़ा आएगा।

अपनी साइट के लिए Theme का चुनाव करते समय और उसके बाद Theme को Customize करते समय Color Combination का अच्छे से ध्यान रखना रखें। Font Size और Font Color का Selection बहुत ही अच्छे तरीके से करें। अगर आप अपनी साइट में Text का Color, बैकग्राउंड का Color लाल या पीला कर देंगे तो यूजर्स को आपके कांटेक्ट को पढ़ने में काफी परेशानी होगी।

इसके अलावा अपने Content का Text Size भी सही रखें जिससे आपके Users उसे आसानी से पढ़ सके। अगर आप Text Size को छोटा रखते हैं तो Users को पढ़ने के लिए उसे बार-बार Zoom in और Zoom Out करना पड़ेगा जोकि बिल्कुल भी सही तरीका नहीं है।

Body Font Text को Set करने के लिए आप इस CSS Code को भी Add कर सकते हो:

body { font-size: 18px; }

2. आपके Content में Quality होनी चाहिए:

आपको शुरू से ही अपनी साइट पर पब्लिश करने वाले कंटेंट की क्वालिटी पर ध्यान देना चाहिए। Quality Content ही आपकी साइट को एक ब्रांड बना सकता हैं। एक High Quality Content लिखने में थोड़ा सा समय अधिक जरूर लगता है लेकिन अगर आप थोड़ा-सा और समय निकाल कर ऐसा Content लिखने पर अधिक ध्यान देंगे जो Users को एकदम सटीक जानकारी देने में मदद करें तो सफलता प्राप्त करने में उतना ही कम समय लगेगा।

SEMrush

Content अच्छा होगा तो Users को पढ़ने में मजा भी आएगा और वह आपकी साइट पर ज्यादा समय तक रुक भी सकेंगे इसके अलावा Useful Content होने की वजह से वह बाकी दूसरी Posts को पढ़ने में भी रुचि दिखाएंगे जो Bounce Rate Reduce/कम करने में एक रामबाण की तरह काम करेगा।

आप जिस भी टॉपिक पर लिखना चाहते हैं पहले उस पर थोड़ा-सा Keyword Research जरूर कर लें, अपनी मर्जी से कुछ भी लिखना शुरू न करें। इससे आपको एक सही कंटेंट लिखने में मदद मिलेगी। अगर आप अपने Readers को एक Value Content नहीं देते हैं तो याद रखें इंटरनेट पर ऐसी बहुत सी Sites और हैं जिनके पास आपसे बेहतर जानकारी होगी। ऐसे में यूजर्स ऐसी Sites में ज्यादा interest लेना शुरू कर देंगे और बाउंस रेट बढ़ता और रैंकिंग गिरती चली जाएगी।

Blog Post लिखते समय Content में कम से 800 से 1000 Words जरूर होने चाहिए। SEO Friendly Blog Post लिखें और लिखते समय एकदम साधारण भाषा का प्रयोग करें ताकि आप क्या लिख रहे हैं वह आसानी से समझ में आ सकें।

3. Page की Loading Speed का भी ख्याल रखें:

Bounc Rate के बढ़ने में आपकी Page Loading Speed का भी काफी फर्क पड़ता हैं। अगर आपकी Blog Post Open होने में ज्यादा समय लेती हैं तो काफी Visitors Post के पूरी तरह Load होने से पहले ही Back कर जाएंगे। जोकि Bounce Rate में Count होगा।

इसलिए अपने ब्लॉग की Fast Loading Speed का भी बहुत ही ज्यादा ध्यान रखें। Fast Web Pages सिर्फ Bounce Rate कम करने में ही नहीं बल्कि Google के अनुसार यह SEO और Ranking के लिए भी बहुत ही Important Factor हैं।

  • अगर कोई Web Page Load होने में 1 Second या कम समय लेता है तो वह Perfect loading speed है।
  • 1 से 3 Seconds तक Loading Time Average से थोड़ा अधिक हैं।
  • 3 से 7 Seconds मतलब कि Average ही है।
  • 7 Seconds से भी अधिक हैं तो मतलब कि Very Poor है।

इसलिए आपको ध्यान रखना है कि शुरू के दो Points 1 Second या 1 से 3 Seconds तक ही Page Speed को बनाकर रखें। इसके लिए AMP और Cache Plugins का इस्तेमाल करें और पोस्ट के अंदर केवल वो ही images use करे जो जरूरी हो बेवजह की image add ना करें इससे Pages Heavy होते हैं।

4. Headings का सही तरीके से इस्तेमाल करें:

कोई भी ब्लॉग पोस्ट लिखते समय आपको Headings का सही तरीके से इस्तेमाल करना चाहिए। Headings के माध्यम से किसी भी कंटेंट में दी गई जानकारी को समझना ज्यादा आसान हो जाता है। Content के अंदर Clickbait Headings का बिल्कुल भी Use न करें। SEO के हिसाब से यह बहुत ही Negative Point है।

Clickbait Headings से मेरा मतलब है, Headings को कुछ इस प्रकार से इस्तेमाल न करें कि रैंकिंग के लिए Headings कुछ और हो और उसमें दिया गया Content उससे संबंध ही न रखता हो। इससे Visitors और आपके ब्लॉग के बीच भरोसा शब्द का कोई मतलब नही रह जाएगा।

Headings को लेकर अगर आप कुछ ऐसा ही करते हैं तो आपकी साइट के बाउंस रेट के बढ़ने का यह भी एक बहुत बड़ा कारण हो सकता है क्योंकि विजिटर्स आपकी ब्लॉग पोस्ट को थोड़ा सा पढ़ने के बाद जब उसे सही जानकारी नहीं मिलेगी तो वही तुरंत वापस चला जाएगा जिससे Site का Bounce Rate बढ़ना लगभग तय है।

5. Old Content को समय-समय पर Update करते रहे:

काफी सारी Bloggers के साथ यह समस्या बहुत ज्यादा होती है कि वे केवल अपने ब्लॉग पर Fresh Content डालने के बारे में ही सोचते रहते हैं लेकिन कभी भी पीछे मुड़कर अपनी पुरानी हो चुकी Blog Post के बारे में ध्यान ही नहीं लगाते। जो कि बहुत ही गलत बात है।

ब्लॉगिंग में सफलता पाने का एक मूल मंत्र यह भी है कि आपको अपने नए कंटेंट के साथ-साथ सालों पुरानी हो चुकी Blog Posts को भी एकदम Fresh रखना है। अगर आपने अब से 6 महीने या 1 साल पहले कोई ब्लॉग पोस्ट लिखी थी जिसमें आपने बताया था कि Keyword Research क्या होता है?

SEMrush

तो इस तरह की Posts के पुराने होने से इतना कुछ खास फर्क नहीं पड़ता हैं क्योंकि कीवर्ड रिसर्च क्या होता है। इसकी परिभाषा तो 6 महीने पहले भी वो ही थी और आज भी वो ही हैं और आने वाले दिनों में भी वो ही रहेगी। हां अगर आप अपने हिसाब से उसे और अच्छा से लिखना चाहते हैं तो बात अलग है।

लेकिन अगर आपने कोई ऐसी Post लिखीं हैं जिसमें आपने किसी App, Software या Plugin के Tutorial बारे में बताया है जैसे कि Yoast SEO Setup कैसे करें? तो हो सकता हैं 6 महीने पहले और अब के Setup Process में Updates के कारण काफी बदलाव आ गए हो। तो ऐसे Articles को लगातार Update करते रहने की जरूरत पड़ती है।

क्योंकि बहुत से Visitors ऐसे होते हैं जो पोस्ट में बताए गए Tutorial के अनुसार ही Step by Step उस कार्य को करते जाते हैं लेकिन अगर आपकी पोस्ट Updated नहीं है तो उनको Follow करने में काफी परेशानी हो सकती है। जिसके कारण वे आपकी ब्लॉग पोस्ट को छोड़कर किसी दूसरी साइट पर चले जाते हैं और आपकी साइट का Bounce Rate बढ़ने लगता है।

6. Internal Linking को Smart तरीके से इस्तेमाल करें:

कोई भी SEO Friendly Content लिखनें के लिए और Bounce Rate कम करने के लिए internal linking भी एक बहुत ही महत्वपूर्ण फैक्टर हैं। internal linking से मेरा मतलब है आर्टिकल के बीच-बीच में उस पोस्ट से संबंधित दूसरी Posts को लिंक करना।

आप चाहें तो बीच में कुछ ऐसे Articles को भी लिंक कर सकते हैं जिसे User पढ़ने में interest दिखाए। यह तरीका Visitors को आपकी साइट पर अधिक समय तक रोक कर रखने में बहुत ही उत्तम तरीको में से एक हैं।

Internal linking करते समय इस बात का भी ध्यान जरूर रखें कि आप जो भी Blog Post link कर रहे हैं वह क्लिक करने के बाद New Tab में Open होनी चाहिए। ताकि यूजर जिस पोस्ट को पढ़ रहा है उस पोस्ट को पूरा पढ़ सके और फिर दूसरी Tab में जाकर linking वाली Post को भी पढ़ पाए।

ऐसा करने से आप Blog के Bounce Rate को कम करने में काफी हद तक कामयाब हो सकेंगे।

7. Blog को Mobile Friendly बनाएं:

आज के समय में किसी भी प्रकार की वेबसाइट हो उसके मोबाइल यूजर्स सबसे अधिक होते हैं। लगभग 70% Visitors Mobile के माध्यम से Site को Visit करते हैं। इसलिए आपको अपनी साइट को मोबाइल के हिसाब से Optimize करने की तरफ भी विशेष ध्यान देना चाहिए।

वैसे आजकल लगभग सभी WordPress Themes मोबाइल फ्रेंडली ही आती हैं लेकिन अगर आपने अपने ब्लॉग में कोई Custom WordPress Theme installed की हुई है तो उसे मोबाइल पर हिसाब से Optimize जरूर करें। इसके लिए आप AMP WordPress Plugin को इस्तेमाल में ले सकते हैं जो किसी भी साइट को Mobile Friendly बनाने के लिए और Web Pages को Mobile Screen पर Fast Loading के लिए सबसे उपयोगी WordPress Plugin हैं।

8. Blog Post में Table of Contents का इस्तेमाल करें:

अपनी हर Blog Post में इस Feature को Add करने के लिए आप WordPress Plugins का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए WordPress की Official Plugin Directory के अंदर आपको काफी सारे Plugins मिल जाएंगे।

Bounce Rate Kya Hai in Hindi - Tabel of Contents
Tabel of Contents

यह Visitors को आपकी ब्लॉग पोस्ट के बारे में एक संक्षिप्त Overview देता है कि आपने इस ब्लॉग पोस्ट के अंदर किन-किन Topics के बारे में जानकारी दी है? इसके साथ-साथ यह Search Engine में Post की Ranking में भी काफी ज्यादा फायदा करता है।

मेरे Final Words BOUNCE RATE के बारे में:

तो दोस्तों ब्लॉगिंग में मेहनत और स्मार्ट तरीके काम करके अगर आप ब्लॉगिंग में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तो ब्लॉगिंग से संबंधित हर एक छोटे से छोटे पहलू को आपको importance देनी चाहिए।

आपके ब्लॉग पर विजिटर्स आ रहे हैं लेकिन Bounce Rate लगातार बढ़ता जा रहा तो यह बिल्कुल भी शुभ संकेत नहीं है। इसे आपको जल्द से जल्द कंट्रोल कर लेना चाहिए।

मुझे उम्मीद है दोस्तों “BOUNCE RATE क्या हैं?” (What is BOUNCE RATE in Website?) और अपनी वेबसाइट का Bounce Rate कम कैसे करें? यह जानकारी आप सभी के लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण रही होगी!

मैंने जितने भी तरीके इस पोस्ट के अंदर बताए हैं उनको साइट के अंदर उतारने की कोशिश करें। आप अपनी साइट का बाउंस रेट करने में जरूर कामयाब होंगे। और अगर अभी भी कोई सवाल इस टॉपिक को लेकर आपके मन में है तो आप बेझिझक होकर हम से नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी बात पूछ सकते हैं।

और अगर आपने अभी तक हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब नहीं किया है तो नीचे अपनी Email ID डालकर आप हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब कर सकते हैं ताकि Blogging की जुड़ी हर एक New और important जानकारी आपको सीधे अपने इनबॉक्स में या नोटिफिकेशन के द्वारा प्राप्त हो जाए।

INDI-GYAN को समय देने के लिए आपका धन्यवाद।
HAPPY BLOGGING!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.